Young indian pussy > कुंवारी चूत चुदाई का आनन्दमयी खेल

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब?मेरे अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट ऑर्ग पर आना बहुत टाइम से चल रहा है. बहुत मस्त चुदाई की कहानियाँ यहाँ पढ़ी है मैंने. सोचा के एक मैं भी शेयर करू… चुदाई तो मैं पहले भी कई लड़कियों की कर चुका हूँ पर दोस्तों कुंवारी चूत को चोदने का मजा कुछ और होता है। young indian pussyजब मैंने अपनी भाँजी श्रेया की कुंवारी चूत को चोदा तो पिछली सारी चुदाई भूल गया।Young indian pussy > मेरी गाण्ड और शीमेल का लण्डमुझसे बड़ी मेरी चार बहनें हैं।श्रेया मेरी सबसे बड़ी दीदी की लड़की है।वो मुझे 7-8 साल छोटी है।जब मैंने उसे चोदा था तब उसकी उम्र 18 साल से ज्यादा नहीं रही होगी।पर इस उम्र में ही वो बड़ी-बड़ी लड़कियों को मात देने लगी थी।गजब की खूबसूरती पाई थी।उसके सीने पर उसकी चूचियाँ बड़े-बड़े नागपुरी सन्तरों के जैसी तनी रहती थीं।Young indian pussy > रुकसाना हिजड़ा का गधे जैसा लंडउसकी फिगर 34:24:34 की थी जो उसकी खूबसूरती को और बढ़ा रही थी।बात तब ही है जब मेरे जीजा जी की तबियत खराब हो गई थी।मुझे मम्मी को लेकर उनके घर जाना पड़ा।मेरा मन तो नहीं था, पर जाना पड़ा।सोचा था कि मम्मी को छोड़ कर दूसरे ही दिन वापस आ जाऊँगा, पर वहाँ तो कहानी कुछ और ही हो गई।एक दिन के बजाय एक महीना रूक कर आया वो भी तब आया, जब पिता जी ने फोन करके बुलाया।दरअसल जिस दिन गया, उसी दिन रात श्रेया की कुंवारी चूत हाथ लग गई।Young indian pussy > बगलवाली मस्त आंटीफिर भला आने का क्या मन करता। उस दिन शाम को हल्का-हल्का अन्धेरा हो चला था।जिस कमरे में जीजा जी सोये थे, मोहल्ले की कुछ औरतें उन्हें देखने आई थीं।मम्मी और दीदी उनके साथ बात कर रही थीं।मैं भी वहीं दूसरी चारपाई पर रजाई ओढ़े आधा अन्दर आधा बाहर लेटा था।बिजली थी नहीं.. श्रेया थोड़ी देर बाद एक मोमबत्ती जला कर लाई, जिससे थोड़ा बहुत उजाला हो गया था।वो उसे टेबल के ऊपर रख कर मेरी ही रजाई में आ कर अपना पैर डाल कर बैठ गई और औरतों की बातें सुनने लगी।Young indian pussy > माँ की चुदाई का एहसासश्रेया कुछ इस तरह से बैठी थी कि उसकी तनी हुई दोनों चूचियाँ मेरी नजर के सामने थीं।जिन्हें देख कर मेरा लण्ड अपना नियन्त्रण खोने लगा था।मैं अन्धेरे का पूरा फायदा उठाते हुए उसकी ऊचाईयों को अपनी आँखों से नाप रहा था।थोड़ी देर में ही श्रेया ने अपना पैर कुछ इस तरह से फैलाया कि उसका पैर मेरे पैर से टकराने लगा।उसके कोमल चिकने पैरों के स्पर्श ने मेरी भावनाओं को और भड़काने वाला काम किया।मैंने उसे आजमाने के लिए अपने पैरों को जानबूझ कर आगे-पीछे करने लगा जिससे मेरा पैर श्रेया के चिकने पैरों से रगड़ खाते रहे।Young indian pussy > पड़ोस वाली सोनी कुड़ीश्रेया ने कोई विशेष प्रतिक्रिया नहीं दी, बस हल्की सी मुस्कान के साथ एक बार देखा और फिर सामान्य हो गई।जिससे मेरी हिम्मत को थोड़ा बल मिला।अब मैं अपने पैर को श्रेया के पैरों के और करीब ले जाने की कोशिश करने लगा।श्रेया ने भी अपना पैर हटाया नहीं, बस एक-दो बार इधर-उधर किया।जब भी वो मेरी तरफ देखती मुस्कुरा देती थी, जिससे मुझे और हिम्मत मिल जाती थी।अब मैं पूरी तरह से रजाई के अन्दर घुस गया।सिर्फ मेरी मुन्डी ही बाहर थी।Young indian pussy > पूरी रात बिस्तर में भाभी की चुदाई

Posted from – https://antarvasnasexstories.org/young-indian-pussy-ka-khel/